www.poetrytadka.com

Tanhai ki aag

तन्हाई की आग में कहीं जल ही न जाऊँ

के अब तो कोई मेरे आशियाने को बचाले

tanhai ki aag