भूकम्प शायरी

Monday 30th of March 2020
भूकम्प शायरी | Bhukamp Shayari | Bhukamp SMS | Bhukamp Status
bhukamp today in hindi

bhukamp today in hindi

मन को मीठा कर क्युकी इस धरा का ...इस धरा पर ...सब धरा रह जाएगा

bhukamp par nibandh

भूकंप पर निबंध
तमाम ख़ल्क़-ए-ख़ुदा ज़ेर-ए-आसमाँ की समेट
ज़मीं ने खाई व-लेकिन भरा न उस का पेट
वलीउल्लाह मुहिब
ज़लज़ला आया और आ कर हो गया रुख़्सत मगर
वक़्त के रुख़ पर तबाही की इबारत लिख गया
फ़राज़ हामिदी
ज़लज़ला नेपाल में आया कि हिन्दोस्तान में
ज़लज़ले के नाम से थर्रा उठा सारा जहाँ
कमाल जाफ़री

shayari on bhukamp

shayari on bhukamp

ना हिन्दू दिखा, ना मुसलमान दिखा
घर से भागता बस इंसान दिखा

bhukamp shayari in hindi

bhukamp shayari in hindi

भूकंप स्पेशल शायरी :
नाज़ां बहुत थे अपनी तरक़्क़ी पे सभी लोग
क़ुदरत की एक झपकी ने औक़ात बता दी

bhukamp shayari

bhukamp pe shayari

bhukamp pe shayari हिंदी शायरी भूकंप पे शायरी