www.poetrytadka.com

suraj roz

सूरज रोज़ अब बेफ़िज़ूल ही निकलता है !
तुम गए हो जब से,उजाला नहीं हुआ !!