www.poetrytadka.com

Suna hai aaj wo

Suna hai aaj wo
सूना है आज वो छत पर सोने जा रही है I
खुदा खैर कर उन सितारो की,कही
उसे चाँद समझ कर जमीं पर ना उतर आये II