www.poetrytadka.com

Sookhey Patton Ki Tarah

सूखे पत्तों की तरह बिखरे हैं हम तो !
किसी ने समेत भी तो सिर्फ जलने के लिए !!