smajh

खुद को समझना भी एक समझ है

जो खुदको ना समझा वो ही तो नासमझ है

मुख्य पेज पर वापस जाएँ