www.poetrytadka.com

shouk ab nahi raha

Last Updated

शोक नही रहा अब हमे इश्क मोहबब्त का... 

वरना आज भी गाँव की गौरी पनघट पे और 

शहर की छोरी ट्यूशन पे हमारा इन्तजार करती है