www.poetrytadka.com

shor mchati hai

तेरी कलाई जो पकडूँ तो शोर मचाती है !
ये चूड़ियाँ आखिर तेरी लगती क्या हैं !!