www.poetrytadka.com

Sher o shayari on zindagi

शायर कहकर बदनाम न कर मुझे ! 
मैं तो रोज़ शाम को दिनभर का हिसाब लिखता हूँ !!
Don't defame me by calling a poet!
I write the account of the whole day in the evening !!

अगर सब कुछ मिल जाये  ज़िन्दगी में 
तो किसकी तमन्ना करोगे
कुछ अधूरी ख्वाहिशें तो 
ज़िन्दगी जीने का मज़ा देती हैं।  
Agar sab kuchh mil jaaye zindagi mein 
to kisakee tamanna karoge 
Kuchh adhooree khwahishen to 
zindagi jeene ka maza detee hain
 

Sher o shayari on zindagi