www.poetrytadka.com

shayari sangrah dard

shayari sangrah dard

हुस्न वाले जब तोड़ते हैं दिल किसी का,

बड़ी सादगी से कहते है #मजबूर थे हम