www.poetrytadka.com

shayari sangrah bewfai

shayari sangrah bewfai

तेरे हुस्न पर तारीफ भरी किताब लिख देता

काश के तेरी वफ़ा तेरे हुस्न के बराबर होती