www.poetrytadka.com

Shayari on Bharosa

मुंह से माफ करने में किसी को 
वक्त नही लगता पर दिल से माफ 
करने में उम्र बीत जाती है.
Muh se maaf karne me kisi ko
waqt nahin lagta par dil se maaf
karne me urmra beet jati hai.

भरोसा दूसरों पर रखो तो गम दे जाता हैं,
भरोसा ख़ुद पर रखो तो ताकत बन जाता हैं...!
Bharosa doosron par rakho to gam ban jata hai
agar khud par rakho to takat ban jata hai.

Shayari on Bharosa
सबसे बेस्ट शायरी Click Here