shayari on adhure khwab

shayari on adhure khwab

वो साथ थी तो मानो जन्नत थी जिंदगी,

अब तो हर सांस जिंदा रहने की वजह पूछती है.

Read More khwab shayari