shayari on adhure khwab

shayari on adhure khwab

वो साथ थी तो मानो जन्नत थी जिंदगी
अब तो हर सांस जिंदा रहने की वजह पूछती है.

dil ki basti ko viraan kar ke chala gaya
jo kehta tha bade pyare ho tum
दिल की बस्ती को वीरान कर के चला गया
जो कहता था बडे प्यारे हो तुम

meri zindagi main koi khaas nahi aata
wo kya hai ke main kisi aur ko raas nahi aata
मेरी जिंदगी में कोई खास नहीं आता
वो क्या है के मैं किसी और को रास नहीं आता

Read More