www.poetrytadka.com

sart haar gya hoon

बजह पूछी जो गिरगिट से उसकी उदासी की मैंने !
तो बोला शर्त हार गया हूँ तेरे महबूब से रँग बदलने में मैं !!