www.poetrytadka.com

sare khawab tere

sare khawab tere

सारे शिकवेें जनाब तेरे हैं,दिल पे सारे अज़ाब तेरे हैं !
तुम याद आओ तो नींदनहीं आती !
नींद आये तो मेरे सारे ख़्वाब तेरे !!