www.poetrytadka.com

sar jhuka ke bole

पुछा हाल शहर का तो सर झुका के बोले
लोग तो ज़िंदा हैं जमीरों का पता नहीं !!