www.poetrytadka.com

Samne baitha tha wo mera na tha

फासले ऐसे भी होंगे ये कभी सोचा ना था !
सामने बैठा था मेरे और वो मेरा ना था !!
दुख भरी शायरी