samjha nahi mujhko

achi shayari samjha nahi mujhko

अगर तुझसे इश्क न होता तो कोई बात न होती 

शिकायत सिर्फ इतनी है की तूने समझा नहीं मुझको 

मुख्य पेज पर वापस जाएँ