www.poetrytadka.com

saki ko sikhaaenge

ग़ज़लों का हुनर साकी को सिखायेंगे !
रोएंगे मगर आँसू नहीं आयेंगे !
कह देना समंदर से हम ओस के मोती हैं !
दरिया की तरह तुझसे मिलने नहीं आयेंगे !!