www.poetrytadka.com

sabko chod jaaenge

एक दिन हम भी कफ़न ओढ़ जाएँगे !
हर एक रिश्ता इस ज़मीन से तोड़े जाएँगे !
जितना जी चाहे सतालो यारो !
एक दिन रुलाते हुए सबको छोड़ जाएँगे !!