www.poetrytadka.com

sabke gunah pta nahi chalte

बेकसूर कोई नहीं इस ज़माने मे बस सबके गुनाह पता नहीं चलते !!