www.poetrytadka.com

roz roz mera tmasha naa bnaya kar

मुझ से नाराज़ है तो छोड़ दे तन्हा मुझको,ऐ ज़िन्दगी !
रोज़ रोज़ मेरा तमाशा न बनाया कर !!