www.poetrytadka.com

rojana ssural jana thik nahi hai

वो बोली तुम मेरी गली में क्यु नहीं आते !
मेने कहा पागल रोजाना सुसराल जाना ठीक नहीं है !!