Raat ke sannate

रात के सन्नाटे में, चाँद की तन्हाई को
भला किसने समझा भला कौन समझे

Tanhaiyan thin raat thi tera khyaal tha
Shor aisa tha ki aankh lagaana muhaal tha
तन्हाईयाँ थी रात थी तेरा ख्याल था
शोर ऐसा था की आँख लगाना मुहाल था

aye sard sard raat mujhe chand chahiye
karni hai dil ki baat mujhe chand chahiye
ए सर्द सर्द रात मुझे चाँद चाहिए
करनी है दिल की बात मुझे चाँद चाहिए

mukammal raat bus itna keh gayi
kahani phir se adhuri reh jayegi
मुकम्मल रात बस इतना कह गयी
कहानी फिर से अधूरी रह जायेगी

Read More