www.poetrytadka.com

Quote on Beti

हर तरफ फैली इतनी बुराई क्यों है !
बेटा इतने करीब और बेटी पराई क्यों है!
बेटी जोड़ती है इक सूत्र में हर रिश्ते को!
फिर हरदम होती बेटे की बड़ाई क्यों है!