www.poetrytadka.com

pyar ko pyar hi rahne do

pyar ko pyar hi rahne do

हम ने देखी है उन आँखों की महकती खुशबू !
हाथ से छूके इसे रिश्तों का इल्जाम ना दो !
सिर्फ एहसास है ये, रूह से महसूस करो !
प्यार को प्यार ही रहने दो, कोई नाम ना दो !!