www.poetrytadka.com

purana ho gya

जिन्दगी की तेज रफ्तारी का ये आलम रहा !
सुबह के गम शाम होते ही पुराने हो गये !!