priwar ko pala

hosla bdane wali shayari priwar ko pala

लहू बेच बेच जिसने परिवार को पाला
वो भूखा ही सो गया जब बच्चे कमाने वाले हो गये

मुख्य पेज पर वापस जाए