www.poetrytadka.com

iqbal shayari


हमने तन्हाई को अपना बना रक्खा 

राख के ढ़ेर ने शोलो को दबा रक्खा है 

Allama Iqbal Shayari