www.poetrytadka.com

Pata Nahin

पता नही ये बादल क्यूँ भटक रहे हैं फ़िज़ा में दर-बदर !
शायद इनसे भी बात नहीं करता, इनका अपना कोई !!