www.poetrytadka.com

Nikal pade

जुगनू हवा में ले कि उजाले निकल पड़े,
यूँ तीरगी से लड़ने जियाले निकल पड़े
सबसे बेस्ट शायरी Click Here