www.poetrytadka.com

nid bhi gwa baithe

अजब मुकाम पे ठहरा हुआ है काफिला जिंदगी का !
सुकून ढूढनें चले थे, नींद ही गवा बैठे !!