www.poetrytadka.com

nazre na hoti to nzara naa hota

नज़रे न होती तो नज़ारा न होता !
दुनिया मैं हसीनो का गुज़ारा न होता !
हमसे यह मत कहो की दिल लगाना छोड़ दे !
जा के खुदा से कहो हसीनो को बनाना छोड़ दे !!