nayi subah shayari

nayi subah shayari

सुबह बनने के लिए हर शाम को ढ़लना होता है
मोती बनने के लिए बर्फ को पिघलना होता है
हाथ पर हाथ धर कर ही बैठे मत रहो तुम
मंजिल पाने के लिए हर इंसान को चलना होता है

Read More Good morning shayari in Hindi