www.poetrytadka.com

nashib me likha hai intzar karna

नज़र चाहती है दीदार करना दिल चाहता है प्यार करना !
क्या बतायें इस दिल का आलम नसीब में लिखा है इंतजार करना !!