www.poetrytadka.com

nahi basti kisi aur ki surat

नहीं बसती किसी और की सूरत अब इन आँखो में !
काश कि हमने तुझे इतने गौर से ना देखा होता !!