www.poetrytadka.com

Naa jane itni mohabbat

ना जाने इतनी मुहब्बत कहां से आई है उसके लिये !
कि मेरा दिल भी उसकी खातिर मेरी सुनता नही है !!