www.poetrytadka.com

na smet sako ge qyqmat tak

ना समेट सकोगे कयामत तक जिसे तुम !
कसम तुम्हारी तुम्हें इतनी मुहब्बत करुँगा मै !!