www.poetrytadka.com

Na smajh hi shi

मै नासमझ ही सहीं .. मगर वो तारा हूं जो !
तेरी एक ख्वाहिश के लिये..सौ बार टूट जाऊं !!