www.poetrytadka.com

mushkuraae tum bhi the

अकेले हम ही शामिल नही है जुर्म में जनाब !
नज़रे जब मिली थी मुस्कुराये तुम भी थे !!