www.poetrytadka.com

mushkura deta hoon

मुस्कुरा देता हूँ अक्सर देखकर पुराने खत तेरे I
तू झूठ भी कितनी सच्चाई से लिखती थी II