www.poetrytadka.com

muqaddar ki baat hai

तु मिले ना मिले ये मुक़द्दर की बात है !
मगर सुकून बहुत मिलता है तुझे अपना सोच कर !!