www.poetrytadka.com

mujhe mazboor karti hai

मुझे मजबूर करती हैं यादें तेरी वरना !
शायरी करना अब मुझे अच्छा नहीं लगता !!