www.poetrytadka.com

mujhe hosh nahi

कितनी पी कैसे कटी रात मुझे होश नहीं !
रात के साथ गई बात मुझे होश नहीं !
मुझको ये भी नहीं मालूम कि जाना है कहाँ !
थाम ले कोई मेरा हाथ मुझे होश नहीं !!