www.poetrytadka.com

mujhe dekhne se pahle

मुझे देखने से पहले साफ़ कर;अपनी आँखों की पुतलियाँ ग़ालिब !
कहीं ढक ना दे मेरी अच्छाइयों को भी;नज़रों की ये गन्दगी तेरी !!