www.poetrytadka.com

muddto ke baad usne di aawaz mujhe

मुद्दतों के बाद उसने जो आवाज़ दी मुझे !
कदमों की क्या औकात थी साँसे भी ठहर गयीं !!