www.poetrytadka.com

mohabbat se inayat se wafa se

मोहब्बत से, इनायत से, वफ़ा से चोट लगती है !
बिखरता फूल हूँ, मुझको हवा से चोट लगती है !
मेरी आँखों में आँसू की तरह इक रात आ जाओ !
तकल्लुफ़ से, बनावट से, अदा से चोट लगती है !!