www.poetrytadka.com

Mohabbat ki chamak

उसकी आँखों में मोहब्बत की चमक आज भी है

हालांकि उसे मेरी मोहब्बत पर शक आज भी है

नाव में बैठ कर धोये थे,हाथ उसने कभी

पूरे तालाब में मेहंदी की महक आज भी है

छू तो नहीं पाया उसे प्यार से कभी

पर मेरे होठों पर उसके होठों की झलक आज भी है

हर बार पूछते हैं,हमारी चाहत का सबब

वैसी ही इश्क की ये परख आज भी है

नहीं रह पते वो भी हमारे बिना

दोनों तरफ इश्क की दहक आज भी है

Mohabbat ki chamak
सबसे बेस्ट शायरी Click Here