www.poetrytadka.com

mohabbat ke liae

ज़िन्दगी यूं ही बहुत कम है,मुहब्बत के लिए !
फिर एक दूसरे से रूठकर वक़्त गवांने की जरूरत क्या है !!