www.poetrytadka.com

Mohabbat bhi teri thi

मोहब्बत भी तेरी थी, वो नफ़रत भी तेरी थी !

वो अपनाने और ठुकरने की अदा भी तेरी थी !

मैं अपनी वफ़ा का इंसाफ किस से मांगता !

वो शहर भी तेरा था और वो अदालत भी तेरी थी !!